ग्रीष्म ऋतु के नियम :–
मधुर, शीतल, चिकने, हलके, पतले पदार्थ (रसाला – सिकरन), शक्कर, सत्तू, दूध, जंगल के जीवो का मांस, शक्कर के साथ चावल, लौकी (घीया), भात और मांसरस खाना, चन्द्रमा की किरणों का सेवन, दिन में सोना, चन्दन लगाना, शीतल जल, पानक (शरबत का पीना) गर्मी के मौसम में लाभदायक है।
परहेज :–
चरपरे (तीक्ष्ण), क्षारयुक्त, खट्टे पदार्थ, धूप और अधिक मेहनत इस मौसम में त्याज्य है॥

 

                                                                                                                                                                                सन्दर्भ:- भा॰ प्र॰

Leave a Reply

%d bloggers like this: